Holi 2022: Bring the ashes of Holika Dahan home and keep it at this place, there will never be a shortage of moneyHoli 2022: होलिका दहन की राख को घर लाकर इस जगह पर रख दें, कभी नहीं रहेगी पैसों की कमी

 Holi 2022- India TV Hindi
Image Source : FREEPIK
 Holi 2022

होलिका दहन से पहले होली पूजन का विशेष विधान है। इस बार होलिका दहन की तिथि 17 मार्च को पड़ रही है। होलिका दहन के दिन कुछ आसान से ज्योतिष उपाय करने से घर में सुख-समृद्धि और शांति बनी रहती है। आचार्य इंदु प्रकाश के अनुसार जैमिनी सूत्र में इसका आरम्भिक शब्दरूप ‘होलाका’ बताया गया है। वहीं हेमाद्रि, कालविवेक में होलिका को ‘हुताशनी’ कहा गया है। वहीं भारतीय इतिहास में इस दिन को भक्त प्रहलाद की जीत से जोड़कर देखा जाता है। 

विष्णु पुराण: बिल्कुल भी देर तक नहीं करना चाहिए ये रोजमर्या के 4 काम, होगा नुकसान ही नुकसान

कहा जाता है कि प्राचीन काल में हिरण्यकश्यप नाम का अत्यंत बलशाली राजा था जो भगवान में बिल्कुल भी विश्वास नहीं रखता था। लेकिन उसका पुत्र प्रहलाद श्री विष्णु का परम भक्त था। होलिका दहन के समय ऐसी परंपरा भी है कि होली का जो डंडा गाडा जाता है, उसे प्रहलाद के प्रतीक स्वरुप होली जलने के बीच में ही निकाल लिया जाता है। होली की बुझी हुई राख को घर लाना चाहिए। इस राख की जरुरत आपको धुलेंडी वाले दिन पड़ेगी।

Garuda Purana: इन 7 चीजों को देख लेने मात्र से मिल जाता है पुण्य, घर पर रहेगा मां लक्ष्मी का वास

सुख-शांति के लिए धुलेंडी के दिन ऐसे करें राख का इस्तेमाल

होली के दिन घर के आंगन को साफ करके वहां पर एक वर्गाकार आकृति बनानी चाहिए और उसके मध्य में कामदेव की पूजा करनी चाहिए। फिर घर की महिलाओं द्वारा कामदेव की प्रतिमा पर चन्दन का लेप लगाना चाहिए और कामदेव से प्रार्थना करते हुए कहना चाहिए- कामदेवता मुझपर प्रसन्न हों। साथ ही यथाशक्ति ब्राह्मण आदि को दान करना चाहिए और चन्दन लेप से मिश्रित आम का बौर खाना चाहिए।

आज धूल की वंदना करनी चाहिए और होलिका विभूति को यानि होली की राख को धारण करना चाहिए। साथ ही मिट्टी से स्नान करने की भी परंपरा है। इसके साथ ही होली वाले दिन स्नान करने से पहले शरीर पर मिट्टी लगानी चाहिए और उसके कुछ देर बाद स्नान करना चाहिए।     

सपने में दिखें ये चीजें तो समझ लें कि जल्द ही आपको होने वाला धन लाभ

इस दिशा में रखें होलिका की राख 

वास्तु शास्त्र के अनुसार होली जलाने के बाद होली की राख को लाकर घर के आग्नेय कोण, यानी दक्षिण-पूर्व दिशा में रखना चाहिए। क्योंकि आग्नेय कोण का संबंध अग्नि तत्व से है और राख भी अग्नि जलने के बाद ही बनती है। आपको बता दें कि इस दिशा में होली की राख रखने से आपको व्यापार में लाभ मिलेगा। जीवन में आपकी उन्नति होगी और घर की बड़ी बेटी के साथ आपके संबंध अच्छे होंगे।

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं लोक मान्यताओं पर आधारित हैं। इंडिया टीवी  इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले इससे  संबंधित पंडित ज्योतिषी से संपर्क करें

Source link

Leave a Comment