maathe ki rekhaon se janiye kitni lambi hai aapki umra Know from the lines of the forehead how long you will live माथे की रेखाओं से जानिए कितनी लंबी है आपकी उम्र, बस करना होगा इतना सा काम

 माथे की रेखाओं से जानिए कितनी लंबी है आपकी उम्र- India TV Hindi
Image Source : PIXABAY
 माथे की रेखाओं से जानिए कितनी लंबी है आपकी उम्र

ज्योतिष शास्त्र में लकीरों का बहुत महत्व है, चाहे वो हाथ की रेखाएं हों या फिर माथे की। कहते हैं कि ये रेखाएं ही आपका भविष्य तय करती हैं, कि आने वाले समय में आपके साथ क्या होगा और आपकी उम्र कितनी होगी, भाग्य कैसा होगा, आप कितने धनवान होंगे, ये सब पहले से तय होता है। जीवन और मृत्यु भले ही हमारे हाथ में नहीं है मगर माथे की लकीरों में सब लिखा होता है कि आप कितने साल जीवित रहेंगे और कब आपकी मृत्यु होगी।

जो अच्छे ज्योतिष होते हैं वो आपकी माथे की लकीरें देखकर आपका भविष्य बता सकते हैं। ये बात साबित हो चुकी है कि माथे की लकीरें आपके वो राज़ बता देती हैं जिसके बारे में आपको भी नहीं पता होता है।

शनिदेव को प्रसन्न करेगा कच्चे सूत का उपाय, दूर होगी आर्थिक तंगी भी

क्या कहती हैं माथे की लकीरें

जिन लोगों के माथे पर दो पूरी रेखाएं होती हैं उस व्यक्ति की आयु 66 वर्ष मानी जाती है। वहीं जिन लोगों के माथे की रेखाएं स्पष्ट होती हैं वो धनवान होते हैं। 

Sheetala Ashtami 2022: माता शीतला को क्यों लगाया जाता है बासी खाने का भोग? जानिए इस पर्व का खास महत्व

माथे पर कटी रेखाओं का मतलब

जिस किसी के माथे की रेखाएं कटी हुई होती हैं, कहते हैं कि उन्हें जीवनभर किसी ना किसी प्रकार की परेशानी का सामना करना पड़ता है।

माथे पर 3 रेखाएं होने का मतलब

जिस व्यक्ति के माथे पर तीन रेखाएं होती हैं, वो 75 साल से ज्यादा जीवित रहता है।

माथे पर 5 रेखाओं का मतलब

जिसके माथे पर 5 रेखाएं होती हैं वो मध्यम आयु का होता है यानी कि ऐसी संभावना है कि उसकी उम्र 66 वर्ष हो।

माथे पर एक भी रेखा ना होने का मतलब

माथे पर एक भी रेखा ना होने का मतलब है कि वह व्यक्ति अल्पायु है, उसकी उम्र 25 से 40 वर्ष तक ही होती है, अगर वो जीवित रहता भी है तो उसे कई तरह की बीमारियां झेलनी पड़ सकती हैं।

रेखाओं का जुड़े होने का मतलब

जिसके माथे की रेखाएं अंत में जाकर एक दूसरे से मिल जाती हैं उसकी उम्र 60 साल मानी जाती है।

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं। इंडिया टीवी इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है। इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है।)

 

Source link

Leave a Comment